एक कहवत तो आप लोगो ने सुनी होगी खाली दिमाग शैतान का घर होता है

आपको अपने आप को बिजी रखे आये आज इसे टॉपिक में बात करते है अपने आप को बग कैसे रखना है रखना है इसके फायदे जानते है |

आप जो कर रहे हैं तो कर ही रहे हैं इसके अलावा और भी कुछ कर सकते हैं तो आपको करना चाहए अगर आप के पास खाले टाइम में तो कोई काम जिसे जो भी मन करे करो इसे आप का देमाग खली नहीं रहेगा और आप का मन भी फ्रेस रहेगा |

सबसे महत्वपूर्ण जो आपको सलाह देना चाहता हूं कभी भी खाली मत बैठिए कुछ भी किजिये ऐसा हो सकता है की आपकी करियर से बिल्कुल मिला जुला नहीं हो लेकिन आपको मन कर रहा करने का तो आप जरुर उस चीज को करो ताकि कुछ सीखने को मिले

मै एक स्विच ऑफ के बारे में कुछ बताने जा रहा हु क्या आप जानते है अगर जानते है तो कमेंट में जरुर बताये

वह फिर से कॉलेज में नहीं था लेकिन अब जकार जब उन्होने अपने मशाल को कनेक्ट किया तो उनको लगा की इस्का बहुत बड़ा हाथ है

– बहुत कम चीजें होती है जो आपकी व्यक्तित्व को अलग समूह देता है चाह वह कुछ भी हो और यह कभी भी कह सकते हैं दोस्तों आप बस टाइम पास मत किजिये घुमने के साथ कुछ सिखे

हमेश अपने आप को याद दिलाएं कि आपका लक्ष्य बहुत बड़ा है दोस्तों सैन 1958 की बात है एपीजे अब्दुल कलाम एक पायलट बन्ना चाहते हैं कि उन होने के लिए संघर्ष की पायलट बने के लिए सारे परीक्षा पास कर ली

लेकिन पायलट की वेकेंसी में सिरफ 8 सीट है लेकिन एपीजे अब्दुल कलाम नौवें नंबर में अब उनका चयन तबी हो सकता है जब उनका ऊपर का आठ उम्मीदवार अपनी कोई रिक्ति छोड़ दे

उनको याह बात से कफी निराश थी की उनका सिरफ एक रैंक के वजह से वह चयन में बाहर हो गए लेकिन एपीजे अब्दुल कलाम का कहना था की मैं निराश जरूर हूं लेकिन निरशा मुझे कभी हरा नहीं

भले ही मैं पायलट बनके मैं हवाई जहाज ना उड़ सका लेकिन इंजीनियर बन के एक वैज्ञानिक बन के मुख्य एक विमान जरूर बना सकता हूं मिसाइल बना सकता हूं रॉकेट बना सकता हूं

और दोस्तो याह तो किसी को नहीं पता की अगर एपीजे अब्दुल कलाम पायलट बंटे तो कहां तक पूँछते लेकिन ये तो जरूर सबित हो गया की वाह पायलट नहीं बने लेकिन मिसाइल और रॉकेट बना लिए

भाले हाय इंडियन एयर फ़ोर्स के पायलट नहीं बन पाए लेकिन राष्ट्रपति बन गए वह हमा कहते थे कि अपने आप को बोलिए मैं विल ग्रेट ऐम मैं अपना लक्ष्य ऊंचा रखूंगा या वादा हमशा याद करे

अपने आप से रोज बोलिए मैं हमेश ज्ञान हासिल करता हूं अब्दुल कलाम को मिसाइल आदमी के भी नाम से जाना जाता है वह इंजीनियर वैज्ञानिक मिसाइल मैन एक वैज्ञानिक थे

उन्होन बहुत सारे मिशन को नेतृत्व किया और सफल भी रहे उन्होन पद्म भूषण पद्म भूषण और भारत रत्न जैसे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार जीते वाह भारत के 11वे राष्ट्रपति भी बने

लेकिन इसके बावजुद भी उन्होन यह मन की वह अपने आप को एक शिक्षक समजते द और उनको सबसे ज्यादा खुशी तब मिलाती है जब उनका कोई छात्र पीएचडी पूरी कर देता है

उनके जीवन में कोई ऐसी चीज थी वह थी शिक्षा ज्ञान उनका मनाना था की शिक्षा के लिए जो सबसे अच्छा समय होता है वह होता है छात्र जीवन

किसी भी इंसान के लिए सबसे ज्यादा उनके शिक्षा के सबसे बड़ा हाथ होता है उनका यह एक छात्र का सबसे प्राथमिक कोई नौकरी है तो वह है अच्छी शिक्षा ग्रहण करना

दोस्तो आपको किसी भी कीमत में अपने होसलों को नहीं टूटने देना चाहिए आप अपनी जिद मत छोडिये जब तक आप अपना लक्ष्य तक नहीं पहंच जाते और आपका लक्ष्य आपकी विशिष्टताआपका सफलता सबसे अलग होना चाहिए

आपकी पहचान सबसे अलग होना आपकी सबसे यूनिक बनने की चाहत में आपकी मुसीबतों का हम रोल होता है जो अपनी मुसिबत से लड़ना छोड़ दिया और उसमें काम करना शुरू कर दिया तो आप किसी ना किसी दिन दुनिया में सफल जरूर होंगे

अपने सपनों को पूरी रफ़्तार के साथ पिछा करते रहिये आपकी यही सोच आपकी ज़िंदगी बदल देगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.